फारूक अब्दुल्ला बोले मेरी जान को खतरा

2019-08-06 11:45:16
KTV24News कश्मीर में जारी सियासी घटनाक्रम और लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पर बहस के बीच यह एक बड़ा सवाल बन गया कि फारूक अब्दुल्ला नजरबंद हैं या फिर अपनी मर्जी से घर पर हैं। संसद में गृहमंत्री अमित शाह ने चार बार बयान दिया कि फारूक अब्दुल्ला ना तो हिरासत में हैं और ना ही वह नजरबंद हैं। हालांकि, फारूक अब्दुल्ला ने खुद को नजरबंद बताते हुए गृहमंत्रालय के दावे को झूठा बताया है। कई विपक्षी नेताओं ने भी फारूक अब्दुल्ला को लेकर सवाल किया था। Jagran Logo फारूक अब्दुल्ला बोले- मेरी जान को खतरा, किया गया हूं नजरबंद, तो अमित शाह ने कहा, अगर... पिछले कुछ दिनों से जम्मू-कश्मीर के हालात ठीक नहीं लग रहे थे। हर जगह बस ये ही आवाज कि आखिरकार होने क्या वाला है। अमरनाथ यात्रा को भी रोक दिया गया। हजारों की तादात में जवानों को घाटी में भेजा गया। फिर 5 अगस्त का दिन जब एक झटके में जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छीन लिया गया। Article 370 को हटा दिया गया और पहले से ही सुरक्षा व्यवस्था को इस कदर दुरुस्त कर लिया गया कि कोई भी हानि ना हो सके। इसके मद्देनजर कुछ बड़े नेताओं को पहले नजरबंद किया गया और फिर उनकी गिरफ्तारी भी की गई। हालांकि उन नेताओं में नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला का नाम नहीं था, लेकिन अब उनका बयान आया कि केंद्र सरकार द्वारा उन्हें House Arrest किया गया। फारूक अब्दुल्ला ने मंगलवार को कहा कि उन्हें नजरबंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में तानाशाही को लागू किया गया, ना की लोकतंत्र को। नाराजगी जाहिर करते हुए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने बाहर आने और मीडिया से बात करने के लिएदरवाजा तोड़ दिया उन्होंने आगे कहा कि मैं अपने घर के अंदर कैसे रह सकता हूं जब मेरा राज्य जला रहा है, जब मेरे लोगों को जेलों में बंद किए जा रहे है उन्होंने आगे कहा कि जैसे ही गेट खुलेगा और हमारे लोग बाहर होंगे, हम लड़ेंगे, हम कोर्ट जाएंगे। हम बंदूक चलाने वाले, ग्रेनेड फेंकने वाले, पत्थर फेंकने वाले नहीं हैं, हम शांतिपूर्ण संकल्पों में विश्वास करते हैं। वे हमारी हत्या करना चाहते हैं। मेरे बेटे (उमर अब्दुल्ला) को जेल में रखा गया है।

संबंधित ख़बरें

Advertise With Us